पुलिस हिरासत में आए बब्बर खालसा के 4 आतंकी

पुलिस हिरासत में आए बब्बर खालसा के 4 आतंकी
Updated 21:29 02 Mon Oct 2017
Sharing Icons from Add this

लुधियाना। पंजाब की लुधियाना पुलिस को एक बार फिर बड़ी कामयाबी हाथ लगी जब उसने बब्बर खालसा इंटरनेशनल गुट के चार संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस आयुक्त आर.एन ढोके ने बताया कि गिरफ्तार किये गये आतंकियों को पिछले शनिवार को पकड़े गये सात आतंकवादियों से पूछताछ के दौरान मिली जानकारी के आधार पर गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ के दौरान इन्होंने बताया कि उनके गुट का संचालन ब्रिटेन से सुरिन्द्र सिंह बब्बर कर रहा था। उन्होंने बताया कि  उसका मकसद खालिस्तान का विरोध करने वालों को सबक सिखाना था। इनकी गिरफ्तारी के साथ पिछले 48 घण्टों में पकड़े गये आतंकवादियों की संख्या 11 हो गयी है। बता दें कि जिन सात आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था। उनके पास से तीन पिस्टल और 33 कारतूस और भारी मात्रा में विस्फोटक भी बरामद किए गए हैं।

आपको बता दें कि बब्बर खालसा एक प्रतिबंधित खालिस्तान समर्थक आतंकी संगठन है। आतंकियों की गिरफ्तारी के बारे में मीडिया को संबोधित करते हुए लुधियाना पुलिस कमिश्नर ने बताया कि गिरफ्त में आए ये सातों आतंकी सोशल मीडिया के जरिए इंग्लैंड में रह रहे आतंकी सुरिन्दर सिंह बब्बर के संपर्क में थे। पुलिस ने बताया कि ये आतंकी उन लोगों को निशाना बनाने की योजना बना रहे थे जो पत्रकार खालिस्तान के खिलाफ लिखते थे। पुलिस कमिश्नर ने बताया कि पुलिस ने सूचना के आधार पर इन लोगों को समय रहते गिरफ्तार कर लिया। इसके साथ ही पुलिस ने बताया कि इन आतंकियों को पंजाब में माहौल बिगाड़ने के लिए ब्रिटेन से आर्थिक मदद भी मिलती थी।

पिछले दिनों जिन सात आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था उनके नाम कुलदीप सिंह निवासी लुधियाना, जसबीर सिंह निवासी तरनतारन, अमनप्रीत सिंह निवासी जालंधर, मनप्रीत सिंह निवासी मोगा, ओंकार सिंह जोगरात सिंह तथा अमृतपाल सिंह सभी निवासी अमृतसर है।

गौरतलब है कि इससे पहले 19 सितंबर को यूपी से भी खालसा के दो आतंकी गिरफ्तार किए गए थे। यूपी एटीएस और पंजाब पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन में जिला लखीमपुर से बब्बर खालसा के दो आतंकियों को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार किए गए आतंकियों में से एक नाभा जेल पटियाला से भागे अभियुक्तों को हथियारों की आपूर्ति करने में वांछित था वहीं दूसरा आतंकी बब्बर खालसा के अभियुक्तों से संबंध के मामले में गिरफ्तार किया गया था। इसे पुलिस की बड़ी कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा था।

 

और पढ़ें