चैंपियंस का चैंपियंस बना पाकिस्तान, हारी भारतीय टीम

चैंपियंस का चैंपियंस बना पाकिस्तान, हारी भारतीय टीम
Updated 22:11 18 Sun Jun 2017
Sharing Icons from Add this

नई दिल्ली। चैंपियंस का चैंपियंस बनने का सपना देख रही भारतीयों के लिए उनके उम्मीदों पर पानी फिर गया और पाकिस्तानी क्रिकेट टीम ने चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का खिताब अपने नाम कर लिया है। फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने भारत को 180 रन से हराया। पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तानी टीम ने 338 रन बनाए थी जवाब में भारत की पारी 158 रन पर सिमट गई। सलामी बल्लेबाज फखर जमान (114) के पहले अंतर्राष्ट्रीय शतक और मध्य क्रम के बल्लेबाजों के संयुक्त योगदान के चलते पाकिस्तान ने रविवार को द ओवल मैदान पर जारी आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल मैच में मौजूदा विजेता भारत के सामने 339 रनों का लक्ष्य रखा है। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने निर्धारित 50 ओवरों में चार विकेट खोकर 338 रन बनाए।

यह पाकिस्तान का भारत के खिलाफ पहले बल्लेबाजी करते हुए अब तक का सबसे बड़ा स्कोर है। साथ ही यह चैम्पियंस ट्रॉफी में आईसीसी के पूर्ण सदस्यता वाले देश के खिलाफ बनाया गया सर्वोच्च स्कोर भी है। इससे पहले चैम्पियंस ट्रॉफी में न्यूजीलैंड ने सितम्बर, 2004 में अमेरिका के खिलाफ 347 रन बनाए थे। ओवल में रिकार्ड के लिहाज से भारत के सामने अब तक का सबसे बड़ा लक्ष्य है। इससे पहले चैम्पियंस ट्रॉफी में आठ जून को भारत ने श्रीलंक के सामने 322 रनों का लक्ष्य रखा जिसे उसने तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया था। भारत अगर इस लक्ष्य का हासिल कर लेता है तो यह इस मैदान के लिहाज से सबसे बड़ा लक्ष्य होगा।

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी लेकिन उनका यह फैसला गलत साबित हुआ। भारतीय गेंदबाजों की पाकिस्तान की सलामी जोड़ी फखर और अजहर अली (59) ने जमकर धुनाई की। इन दोनों ने पहले विकेट के लिए 23 ओवरों में 128 रन जोड़े। फखर एक छोर से तेजी से रन बना रहे थे तो अजहर थोड़ा धीमा खेल रहे थे। इन दोनों ने आईसीसी आयोजनों में भारत के खिलाफ पहले विकेट के लिए अब तक की सबसे बड़ी साझेदारी को अंजाम दिया है। इससे पहले 1996 विश्व कप में आमिर सोहेल और सईद अनवर ने पहले विकेट के लिए 84 रन जोड़े थे।

भारत का कोई भी गेंदबाज इस जोड़ी को परेशान नहीं कर पाया। यह जोड़ी अपनी गलती से टूटी। 23वें ओवर की आखिरी गेंद पर रन लेने को लेकर दोनों के बीच गलतफहमी हुई और दोनों एक ही छोर पर आ गए। जसप्रीत बुमराह की गेंद पर महेंद्र सिंह धौनी ने गिल्लियां बिखेर दीं और अजहर पवेलियन लौटे। उन्होंने 71 गेंदों में छह चौके और एक छक्का लगाया। हालांकि अजहर के जाने के फखर पर असर नहीं हुआ उन्होंने अपना आक्रामक अंदाज जारी रखा। उन्होंने लगतार बड़े शॉट खेले और रन बटोरते रहे। 31वें की पहली गेंद पर रविचंद्र अश्विन को चौका मार फखर ने अपना पहला शतक पूरा किया जिसके लिए उन्होंने 91 गेंदें ली।
शतक पूरा करने के बाद फखर, हार्दिक पांड्या की गेंद पर बड़ा शॉट खेलने गए और गेंद ने बल्ले का ऊपरी किनारा लिया और रवींद्र जडेजा ने पीछे भागते हुए अनका शानदार कैच लपका। उन्होंने 106 गेंदों का सामना करते हुए 12 चौके और तीन छक्के लगाए। हालांकि इसके बाद बाबर आजम (46) और शोएब मलिक (12) ने टीम के स्कोर बोर्ड को लगतार चलाने का काम किया। खतरनाक दिख रहे आजम को केदार जाधव ने युवराज सिंह के हाथों कैच कराया। मलिक, भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर जाधव के हाथों लपके गए। अंत में मोहम्मद हफीज 37 गेंदों में चार चौके और तीन छक्कों की मदद से 57 रनों की नाबाद पारी खेल पाकिस्तान को बड़ा स्कोर प्रदान किया। हफीज का साथ इमाद वसीम ने अच्छे से दिया और 21 गेंदों में 25 रन बनाए और पांचवें विकेट के लिए 71 रन जोड़े। भारत की तरफ से भुवनेश्वर कुमार, हार्दिक पांड्या और केदार जाधव ने एक-एक विकेट लिया। एक बल्लेबाज रन आउट हुआ।


 

और पढ़ें