मूंछे रखने पर गुजरात में हुआ कुछ ऐसा!

मूंछे रखने पर गुजरात में हुआ कुछ ऐसा!
Updated 19:26 01 Sun Oct 2017
Sharing Icons from Add this

अहमदाबाद। भारत में हर एक लड़का मूंछों को शान के रूप में देखता है। बॉलीवुड की फिल्मों में अकसर इस तरह के डायलॉग आते हैं कि असली मर्द वो है जिसकी मूंछे हो। इस तरह की लाइनें आते ही पूरा सिनेमा हॉल तालियों से गूंज उठता है। जिस भारत में मूंछ को शान के रूप में देखा जाता है वहां पर किसी शख्स की मूंछे सिर्फ ये बोलकर काट दी जाती है कि तुम दलित हो तो। विकासशील भारत में ये नजारा गुजरात के गांधी नगर से कुछ दूरी पर बसे हुए एक गांव में देखने को मिला है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गांधीनगर से 15 किलोमीटर दूर स्थित एक गांव में दरबार समुदाय के तीन लोगों ने मूंछे रखने पर पीयूष परमार से गाली गलौज की और फिर हमला किया।

पीयूष द्वारा पुलिस को दिए गए बयान के मुताबिक मूंछे रखने के कारण तीन लोगों ने उसके साथ मारपीट की, क्योंकि वह दलित समुदाय से आता है। पीयूष का ये  भी कहना है कि जिस वक्त तीनों युवक उसकी पिटाई कर रहे थे सिर्फ एक ही बात को दोहरा रहे थे कि दलित होकर तुमने मूछ कैसे रखी।

कब और कैसे हुई वारात

पीयूष द्वारा पुलिस को दिए गए बयान के मुताबिक वो अपने भाइयों के साथ 29 सितंबर की रात को गरबा खेलकर घर लौट रहे थे। रास्ते में कुछ लोगों ने पहले उन्हें गालियां देना शुरू कर दिया पहले तो उन्होंने पूरे मामले को नजरअंदाज कर दिया ताकि विवाद ना हो। जब गालियां बढ़ गई तो उन्होंने इसका विरोध किया, पीयूष द्वारा विरोध किए जानें के बाद तीनों लोगों ने मारपीट शुरू कर दी।

जांच के आदेश जारी

स्थानीय पुलिस द्वारा पूरा मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है। तीनों युवकों की पहचान मयूर सिंह वाघेला, राहुल विक्रम सिंह सर्थिया और अजित सिंह वाघेला के रूप में हुई है। पुलिस अधिकारियों द्वारा मीडिया को दी गई जानकारी के मुताबिक इस पूरे मामले की जांच डीएसपी स्तर के अधिकारियों द्वारा की जा रही है क्योंकि मामला दलित वर्ग से जुड़ा हुआ है इसलिए ज्यादा सावधानी बरती जा रही है।

और पढ़ें