मुट्ठी भर चने आपकी सेहत में लगाएंगे चार चांद

मुट्ठी भर चने आपकी सेहत में लगाएंगे चार चांद
Updated 14:32 02 Sun Jul 2017
Sharing Icons from Add this

लाइफस्टाइल डेस्क। हमेशा से चने की दाल और चने को शरीर के लिए स्वास्थवर्धक माना जाता रहा है। नियमित रूप से चने के सेवने से बहुत से  रोग ठीक हो जाते हैं। क्योंकि इसमें कई  प्रकार के प्रोटीन और विटामिन्स  उपयुक्त मात्रा में पाये जाते हैं। यह अन्य दालों  कि तुलना में दाम में भी सस्ता होता है और सेहत के  मामलो में भी दूसरी दालों से पौष्टिक है। इसका सेवन  शरीर को बीमारियों से लड़ने में सक्षम बनाता है। और उसके साथ ही दिमाग को तेजी प्रदान करता है। चने को अंकुरित करके खाने से बहुत से लाभ  होते है।

अस्थमा के मरीजों के लिए सर्दियों में चने के आटे का हलवा लाभकारी होता है। चने के आटे कि रोटी दो महीने तक नियमित रूप से खाने से  त्वचा  संबंधित  बीमारियां जैसे-दाद, खाज, खुजली आदि से मुक्ति मिलती है।

रात में सोते समय भुने हुए चने गरम दूध के साथ खाने से सांस और कफ सम्बंधित बीमारिया दूर हो जाती है।
चीनी बर्तन में थोड़े से चने भिगो दे। और सुबह खाली  पेट चबाकर  लगातार  खाने से  वीर्य में बढ़ोतरी होती है व पुरुषों की कमजोरी से जुड़ी समस्याएं  समाप्त  हो जाती हैं। पानी में भीगे हुए चने को  दूध  के  साथ खाने से वीर्य का पतलापन दूर होता है।

5-यह पाचन शक्ति को सही करता है और दिमागी शक्ति को बढ़ाता है।

6-चने के सेवन से खून साफ होता है जिससे  त्वता निखरती है।

7- चने  की भीगी दाल और चीनी  को बराबर मात्रा में  मिलाकर नियमित रूप से 2 महीने तक सेवन करने से धातु पुष्ट हो जाती है।

8- एक मुठी काले चने रात में भिगोकर सुबह  खाली पेट  खाने से डायबिटीज  के इलाज में लाभ होता है।

9-पीलिया की बीमारी में चने  कि  दाल को पानी में  कुछ घंटों के लिए भिगो  दे फिर दाल से पानी को अलग कर के उस दाल को  100 ग्राम गुड़  के साथ मिलाकर 4 से 5 दिन तक मरीज को दे । इससे पीलिया  कि बीमारी में लाभ  होगा।

10- जुकाम  में  गर्म चने को किसी साफ कपड़े में बांधकर सूंघे। इससे जुकाम  में राहत मिलेगी।
 

और पढ़ें